Friday, September 11, 2009

साहित्यिक धरोहर - एक परिचय

साहित्य समाज का दर्पण होता है। साहित्य,कला, संगीत के प्रति अनुराग मनुष्य की स्वाभाविक प्रवृत्ति है जो अवसर पाते ही अभिव्यक्त हो जाती है । देश के प्रत्येक क्षेत्र में ऎसी अनेक प्रतिभाएँ अस्तित्व में हैं जिनकी सृजनात्मक क्षमता अद्वितीय रही है और उनकी रचनाएँ 'कालजयी साहित्य ' की श्रेणी में आती हैं ,लेकिन सार्थक मंच के अभाव में ये रचनायें समाज के सुधी पाठकों के अवलोकनार्थ नहीं आ सकीं। इस ब्लॉग के निर्माण का उददेश्य बुन्देलखंड क्षेत्र के ऐसी रत्नों के साहित्य को प्रकाश में लाना है।

उत्तर प्रदेश का जनपद जालौन ऋषि- भूमि रहा है ।यह क्रोंच,उद्दालक,पाराशर,जाल्वन एवं व्यास जैसे ऋषियों की तपोभूमि रही है। साहित्यिक एवं आध्यात्मिक दृष्टि से यह क्षेत्र अत्यन्त समृद्ध रहा है। इस ब्लॉग के प्रथम चरण में इस क्षेत्र की दिवंगत एवं वर्तमान काव्य प्रतिभाओं की प्रतिनिधि रचनाओं से साहित्यप्रेमियों को अवगत कराने का संकल्प लिया गया है।

15 comments:

  1. वाह बहुत बढ़िया लिख है आपने! अच्छी जानकारी भी मिली आपके पोस्ट के दौरान! इस बेहतरीन पोस्ट के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  2. स्वागत है आपका, निरंतर सक्रिय लेखन से हिन्दी ब्लॉग्गिंग को समृद्ध करें.
    धन्यवाद!

    - सुलभ जायसवाल सतरंगी

    ReplyDelete
  3. अगले लेख क इंतजार रहेगा ।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छा लगा ।

    चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

    गुलमोहर का फूल

    ReplyDelete
  5. aapka aana mubarak. sahitya ko har kadi aur mukamil karti hai.

    Devi nangrani

    ReplyDelete
  6. स्वागत है श्रीमन.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर...लिखते रहें...शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  8. Bahut Barhia...aapka swagat hai... isi tarah likhte rahiye...

    Please Visit:-
    http://hellomithilaa.blogspot.com
    Mithilak Gap...Maithili Me

    http://mastgaane.blogspot.com
    Manpasand Gaane

    http://muskuraahat.blogspot.com
    Aapke Bheje Photo

    ReplyDelete
  9. ब्लोगिंग जगत में आपका स्वागत है. आपको पढ़कर बहुत अच्छा लगा. सार्थक लेखन हेतु शुभकामनाएं. जारी रहें.


    ---
    Till 25-09-09 लेखक / लेखिका के रूप में ज्वाइन [उल्टा तीर] - होने वाली एक क्रान्ति!

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छा
    आपका स्वागत है
    ढेर सारी शुभकामनायें.



    *********************************
    प्रत्येक बुधवार सुबह 9.00 बजे बनिए
    चैम्पियन C.M. Quiz में |
    प्रत्येक रविवार सुबह 9.00 बजे शामिल
    होईये ठहाका एक्सप्रेस में |
    प्रत्येक शुक्रवार सुबह 9.00 बजे पढिये
    साहित्यिक उत्कृष्ट रचनाएं
    *********************************
    क्रियेटिव मंच

    ReplyDelete
  11. IS MAHATVA PORNA PRAYAS KE LIYE HAM SATH HAI.ASHA HAI ISI TARAH HAMARI DHAROHARO KE PRATI LOGO ME JAGROOKTA BANEGI.VIRENDRA YADAV

    ReplyDelete